blogid : 316 postid : 1368809

रानी लक्ष्‍मीबाई को अंग्रेज जनरल मानता था सबसे खतरनाक, जीते जी नहीं करने दिया झांसी पर कब्‍जा

Posted On: 19 Nov, 2017 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

रानी लक्ष्मीबाई ने पुरुषों के वर्चस्व वाले काल में अपने राज्य की कमान संभालते हुए अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिए थे। उन्‍होंने अपने जीते जी अंग्रेजों को झांसी पर कब्जा नहीं करने दिया। अंग्रेज भी उनकी वीरता के कायल थे। उनकी वीरता के लिए ही कहा जाता है… खूब लड़ी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी थी। आज के ही दिन यानी 19 नवंबर, 1835 को देश की इस अद्भुत वीरांगना का जन्‍म हुआ था। हालांकि, कई जगह ऐसा भी लिखा मिलता है कि इनका जन्‍म 19 नवंबर, 1828 को हुआ था। आइये जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें।


ranilakshmibai


बाजीराव के दरबार में किया सबको प्रभावित

लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी के भदैनी में हुआ था। उनकी मां का नाम भागीरथी बाई तथा पिता का नाम मोरोपन्त तांबे था। लक्ष्‍मीबाई का बचपन का नाम मणिकर्णिका था। प्यार से उन्हें मनु पुकारा जाता था। मोरोपन्त एक मराठी थे और मराठा बाजीराव की सेवा में थे। मनु जब चार वर्ष की थीं, तभी उनकी मां की मृत्यु हो गई। इसके बाद मोरोपन्त तांबे उनको अपने साथ बाजीराव के दरबार में ले गए, जहां चंचल और सुन्दर मनु ने सबको प्रभावित किया।


rani laxmibai


ऐसे बनीं झांसी की रानी

सन् 1842 में मनु का विवाह झांसी के मराठा शासक राजा गंगाधर राव निम्बालकर के साथ हुआ। इसके बाद वे झांसी की रानी कहलाने लगीं। विवाह के बाद उनका नाम लक्ष्मीबाई रखा गया। सन् 1851 में रानी लक्ष्मीबाई ने एक पुत्र को जन्म दिया पर चार महीने की आयु में ही उसकी मृत्यु हो गई। सन् 1853 में राजा गंगाधर राव का स्वास्थ्य बहुत अधिक बिगड़ जाने पर उन्हें दत्तक पुत्र लेने की सलाह दी गई। पुत्र गोद लेने के बाद 21 नवंबर, 1853 को राजा गंगाधर राव की भी मृत्यु हो गई। लक्ष्मीबाई के दत्तक पुत्र का नाम दामोदर राव रखा गया।


laxmibai


तात्या टोपे के साथ मिलकर लड़ीं

इसके बाद झांसी को कमजोर होता देख 1857 में पड़ोसी राज्य ओरछा तथा दतिया के राजाओं ने आक्रमण कर दिया, लेकिन रानी ने उन्‍हें विफल कर दिया। 1858 के जनवरी में ब्रिटिश सेना ने झांसी की ओर बढ़ना शुरू कर दिया और मार्च के महीने में शहर को घेर लिया। झांसी के किले में रसद व युद्ध सामग्री खत्म होते देख रानी ने समर्पण की जगह जंग को जारी रखने के लिए दामोदर राव के साथ कालपी की ओर कूच किया। वहां बिठूर से भागे नाना साहब पेशवा और तात्या टोपे के नेतृत्व में बागियों की फौज ने किले पर कब्जा कर डेरा डाल लिया था। वहां से विद्रोहियों ने ग्वालियर आकर वहां के नाबालिग सिंधिया राजा से धन व दूसरे युद्ध संसाधन वसूलकर अंग्रेजों से जंग की तैयारी कर ली। तात्या टोपे और रानी लक्ष्मीबाई की संयुक्त सेनाओं ने ग्वालियर के विद्रोही सैनिकों की मदद से ग्वालियर के एक किले पर कब्जा कर लिया। 18 जून, 1858 को ग्वालियर के पास कोटा की सराय में ब्रिटिश सेना से लड़ते-लड़ते रानी लक्ष्मीबाई ने वीरगति हासिल की।


rani lakshmibai


सबसे खतरनाक थीं रानी लक्ष्मीबाई

इस लड़ाई को लेकर ब्रिटिश जनरल ह्यूरोज ने टिप्पणी की थी कि रानी लक्ष्मीबाई अपनी सुंदरता, चालाकी और दृढ़ता के लिए तो उल्लेखनीय थीं ही, विद्रोही नेताओं में सबसे अधिक खतरनाक भी थीं। दरअसल, रानी लक्ष्मीबाई झांसी से कालपी होते हुए दूसरे विद्रोहियों के साथ ग्वालियर आ गई थीं। हालांकि, कैप्टन ह्यूरोज की युद्ध योजना के चलते ही वे घिर गईं…Next


Read More:

दीपिका से पहले ये हीरोइनें बन चुकी हैं रानी पद्मावती, पर नहीं हुआ था कोई विवाद
2018 में इतने स्टार किड्स बॉलीवुड में करेंगे डेब्यू! लॉन्चिंग से पहले हो चुके हैं मशहूर
प्रथम श्रेणी क्रिकेट में यूसुफ ने बनाया है विश्व रिकॉर्ड, करोड़ों के बंगले के हैं मालिक



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran