blogid : 316 postid : 1348840

'पीरियड' को यहां बीमारी नहीं बल्कि महोत्सव की तरह मनाते हैं, यहां सदियों पहले टूट चुकी है सोच की बेड़ियां

Posted On: 27 Aug, 2017 Social Issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पीरियड के दौरान लड़कियों को भगवान या पूजा-पाठ से दूर रहने को कहा जाता है. ऐसे में अक्सर मेरे मन में एक ख्याल आता है कि जब भगवान श्रीकृष्ण और प्रभु श्रीराम इंसान के रूप में धरती पर जन्मे थे, तो क्या उनकी माताएं मासिक धर्म की अवस्था में उन्हें स्पर्श नहीं करती थी? ऐसे में भला भगवान दूसरी स्त्रियों को पीरियड्स के दौरान स्वयंं को छूने को कैसे मना कर सकते हैं? देखा जाए तो आज स्त्रियों की जिस चीज को नजरें तिरछी करके देखा जाता है या उनसे इस अवस्था के दौरान दूरी बनाकर रखी जाती है, वास्तव में उसी मासिक चक्र से इंसान का जन्म होता है.

rajo


यदि स्त्रियों को मासिक धर्म नहीं होता, तो इंसान नाम के किसी जीव की उत्पत्ति धरती पर नहीं होती. बहरहाल, भीड़ में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो माहवारी के प्रति लोगों को जागरूक करने में लगे हैं, साथ ही वो पुरानी जर्जर पड़ चुकी प्रथाओं और धारणाओं पर भी प्रहार कर रहे हैं. वहीं भारत जैसे विभिन्नताओं से भरे देश में अक्सर ऐसी प्रथाएं भी देखने को मिलती है जो स्टीरियोटाइप को तोड़ने का काम करती है. आपको जानकर हैरानी होगी कि एक ओर जहां औरतों को होने वाली माहवारी के प्रति लोगों का रवैया बेहद नकारात्मक लगता है वहीं दूसरी तरफ उड़ीसा में माहवारी होने पर उत्सव मनाया जाता है.

oddisa

4 दिन तक चलने वाले इस उत्सव को ‘राजपर्व’ नाम से जाना जाता है, जिसे हर साल चार दिन तक चलने वाले इस पर्व के पहले दिन को पहीलि रजो, दूसरे दिन को मिथुन संक्राति, तीसरे दिन को भूदाहा या बासी रजा और आखिरी दिन को वासुमति स्नान के नाम से जाना जाता है. इस उत्सव की सबसे खास बात ये है कि इसमें केवल वही स्त्रियां भाग लेती हैं जो इस दौरान मासिक चक्र के दौर से गुजर रही होती हैंं लेकिन यदि दूसरी महिलाएं भी इस उत्सव में शामिल होना चाहती हैं तो उन्हें मना नहीं किया जाता.

festival

इस उत्सव में पेड़ों पर झूले लगाकर लड़कियां झूला झूलती हैं. साथ ही नए कपड़े और सज-संवरकर गीत गाती हैं. इस दौरान लड़कियां एक-दूसरे को हल्दी लगाकर दूध से स्नान करती हैं. माहवारी या मासिक धर्म के प्रति जागरूक करने और पुरानी मान्यताओं को तोड़ने वाला ये अपनी तरह का अनोखा पर्व है…Next


Read more

लड़की का यह उत्तर पढ़ शिक्षक हुआ शर्मसार

समाज से बेपरवाह और परिवार से निडर, इन बोल्ड पुरूषों ने की ट्रांसजेंडर पार्टनर से लव मैरिज

विधवाओं पर समाज द्वारा लगाई जाने वाली पाबंदी का वैज्ञानिक पहलू भी है..जानिए क्यों विज्ञान भी उनके बेरंग रहने की पैरवी करता है

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran