blogid : 316 postid : 1301233

जन्म लेते ही गूगल पर भी इस तरह मशहूर हो गया सैफ-करीना का बेटा, खंगाले जा रहे हैं इतिहास

Posted On: 21 Dec, 2016 Social Issues में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

नाम में क्या रखा है? शेक्सपीयर अगर आज के जमाने में सोशल मीडिया पर होते तो मुमकिन है, उन्हें तैमूर नाम पर मचे घमासान को देखकर हर्ट अटैक आ जाता और वो एक बार फिर से स्वर्ग सिधार जाते. सैफ अली खान और करीना कपूर की शादी अभी कुछ लोगों को ठीक से हजम भी नहीं हुई थी कि सैफीना खेमे से आई एक और खबर ने कुछ लोगों का मूड खराब कर दिया. उज्बेकिस्तान के भेड़चोर से निरकुंश आक्रमणकारी ‘तैमूर’ की याद फिर से लोगों को आने लगी. तैमूर बिना किसी सुपरहीरो से हारे दुनिया में आते ही खलनायक बन गया है. जो लोग तैमूर का मतलब भी नहीं जानते, वो भी उसे देशद्रोही साबित करने लगे हैंं.


saifeena



इन सभी बातों से परे एक बात बेहद दिलचस्प है कि सैफीना के बेटे को अपने पिता की तरह किसी हिट फिल्म का इंतजार नहीं करना पड़ा, उससे पहले ही वो स्टार बन गया. वो इतना पॉपुलर हो गया कि गूगल पर तैमूर टाइप करते ही अली खान सजेशन में सबसे ऊपर आता है यानि सैफ-करीना का बेटा तैमूर असली वाले तैमूर से भी कहीं आगे निकल चुका है. वो भी पैदा होते ही. अब तैमूर के बारे में इतनी घमासान मची ही हुई है, तो आइए जान ही लीजिए तैमूर के बारे में.


google 1



भेड़चोर, आक्रमणकारी, क्रूर शब्द भी कम है

तैमूर का जन्म 1336 उज्बेकिस्तान के एक आम परिवार में हुआ था. कहा जाता है कि तैमूरलंग एक मामूली चोर था, जो मध्य एशिया के मैदानों और पहाड़ियों से भेड़ों की चोरी किया करता था. जन्म के समय नाम तैमूर रखा गया था, लेकिन आगे हुई एक घटना के बाद उसे तैमूर-ए-लंग कहने लगे. तैमूर 1369 में समरकंद का शासक बना और उसके बाद उसने विजय और क्रूरता की यात्रा शुरू की. तैमूर की क्रूरता के कई किस्से मशहूर हैं. कहा जाता ‍कि एक जगह उसने दो हजार जिंदा आदमियों की एक मीनार बनवाई और उन्हें ईंट और गारे में चुनवा दिया. एक लड़ाई में तैमूर के शरीर का दाहिना हिस्सा बुरी तरह घायल हो गया था, इसके बाद यही नाम बिगड़ते-बिगड़ते तैमूरलंग हो गया. तैमूरलंग के बारे में कई किस्से मशहूर हैं, कहा जाता है कि वह एक हाथ से तलवार पकड़ सकता था.



taimur


भारत में इस तरह मचाया था आतंंक

1398 के प्रारंभ में तैमूर ने पहले अपने पोते पीर मोहम्मद को भारत पर आक्रमण के लिये रवाना किया. उसने मुल्तान घेरा डाला और छह महीने बाद उसपर अधिकार कर लिया. अप्रैल 1398 में तैमूर स्वयं एक भारी सेना लेकर समरकंद से भारत के लिये रवाना हुआ और सितंबर में उसने सिंधु, झेलम तथा रावी को पार किया. इसके साथ ही वो मुल्तान से 70 मील उत्तर-पूरब में स्थित तुलुंबा नगर पहुंचा. उसने इस नगर को लूटा और वहां के बहुत से निवासियों का  कत्ल किया तथा बहुतों को गुलाम बनाया. फिर मुल्तान और भटनेर पर कब्जा किया. वहां अनेक मंदिर नष्ट कर डाले. अंत में वो दिल्ली के निकट पहुंच गया.


taimur 2


सिर्फ लूटमार करने भारत आया था तैमूर

तैमूर ने अंत में दिल्ली नगर में प्रवेश किया. पांच दिनों तक सारा शहर बुरी तरह से लूटा-खसोटा गया और उसके बाद अभागे निवासियों का बिना किसी कारण कत्ल किया गया या बंदी बनाया गया. पीढ़ियों से संचित दिल्ली की दौलत तैमूर लूटकर समरकंद ले गया. अनेक बंदी बनाई गई औरतों और शिल्पियों को भी तैमूर अपने साथ ले गया. भारत से जो कारीगर वह अपने साथ ले गया उनसे उसने समरकंद में अनेक इमारतें बनवाईं, जिनमें सबसे प्रसिद्ध उसकी स्वनियोजित जामा मस्जिद है. तैमूर भारत में केवल लूट के लिये आया था. उसकी इच्छा भारत में रहकर राज्य करने की नहीं थी. 15 दिन दिल्ली में रुकने के बाद वह स्वदेश के लिये रवाना हो गया.


taimur 3


अब तैमूर शब्द का अर्थ भी जान लें

तैमूर के बारे में तो आपने जान लिया. अब जान लेते हैं इस शब्द के बारे में. तैमूर अरबी का शब्द है जिसका अर्थ होता है लौह पुरुष, सेक्सी, ख़ुद्दार. निर्भर करता है कि किन अर्थों में आप इसे इस्तेमाल करते हैं. इसे आप एक तरह का विशेषण भी कह सकते हैं. लौह पुरुष सरदार पटेल को आप तैमूर सरदार पटेल कह सकते हैं.


jaychand



राम, कृष्ण, विष्णु या जयचंद्र नाम

अब ऐसे में एक बात तो साफ है, अभी तक जो लोग तैमूर के बारे में नहीं जानते होंगे. वो उसके बारे में इतना तो जान गए होंगे कि तैमूर एक आक्रमणकारी था, लेकिन इसका अर्थ ये नहीं है कि तैमूर नाम को बैन कर दिया जाना चाहिए. जरा सोचिए, देश में कितने ही बच्चों के नाम राम, कृष्ण आदि भगवान के नामों पर रखे जाते हैं, तो क्या उनमें से कभी कोई व्यक्ति बड़ा होकर अपराध नहीं करता या महापुरूषों, भगवान के नाम वाले लोगों ने कभी अपराध नहीं किया होगा. क्या लोग जयचंद्र, नाम रखना बंद कर चुके हैं?


saif kareena


अंग्रेजी नाम से भी करें नफरत

हम इंसानों में से ही किसी इंसान ने कहा है कि ‘हम इंसान बड़े ही मौकापरस्त होते हैं’. अपनी सहूलियत के हिसाब से नियम, कायदे-कानून बदल लेते हैं. अब अंग्रेजों को ही ले लीजिए, उन्होंने 200 साल तक राज किया. लूट-खसोट, अत्याचारों की लम्बी कहानी है, बंटवारा, सांप्रदायिक दंगे आदि किये. ऐसे में तो अंग्रेजी, अंग्रेजों के नामों से भी हमें नफरत करनी चाहिए. टॉम, पीटर, जेसिका, सिड, माइकल, जॉन, मैरी आदि नामों से भी तौबा कर लेनी चाहिए. लेकिन हम सभी के ‘मैकडोनाल्ड अंकल’ फेवरेट हैं, वो आप भी जानते हैं.


saif kareena 2



आप अपने नाम से कितना मेल खाते हैं?

किसी का नाम दारा है तो हमें उससे डरना शुरू कर देना चाहिए, क्योंकि उसका एक मुक्का पड़ते ही हमारी जान निकल सकती है. पूजा नाम सुनते ही समझ लेना चाहिए कि लड़की कट्टर धार्मिक होगी, शांति कभी किसी ने लड़ाई नहीं करती होगी और अगर किसी का नाम आमिर, सलमान है तो पक्का वो बॉलीवुड के अगले सितारे बनेंगे, वो भी जन्म लेते ही. वहीं दौलतचंद नाम के लोग तो पक्का बिल गेट्स को चैलेंज करेंगे, बेशक जेब में समोसा खाने के लिए 10 रुपए न हो…Next


Read More :

सैफ-करीना का ये आलीशान घर – ‘पटौदी पैलेस’, जहां हैं 150 कमरें और 100 नौकर, देखें तस्वीरें

सैफ से 12 साल बड़ी हैं अमृता, करीना नहीं इस लड़की की वजह से टूटा उनका परिवार

इधर ऋतिक-करीना का अफेयर, उधर घर छोड़ने को मजबूर हुईं थी सुजैन




Tags:                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran