blogid : 316 postid : 1285397

आस्था के नाम पर ठगते लोग

Posted On: 23 Oct, 2016 Social Issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आस्तिक-नास्तिक, धर्म-अधर्म, देशभक्त-देशद्रोह. देश में इन दिनों सोशल मीडिया पर इन्हीं मुद्दों पर सबसे ज्यादा बहस की जा रही है. अभी हाल ही में मथुरा में नास्तिकों का सम्मेलन हुआ था जिसमें आस्तिकों को उस पर कड़ी आपत्ति थी.


mundan



भारत में धर्म का मामला कोई नया नहीं है. साल 2012 में भी अक्षय कुमार अभिनीत फिल्म ‘ओह माई गॉड’ आई थी. जिसमें धर्म के नाम पर कारोबार करने वाले लोगों का सच दिखाया गया था, जिसके बाद फिल्म का कई जगह बहिष्कार भी किया गया. बहरहाल, फिल्म में एक सीन था जिसमें परेश रावल डिबेट शो में धार्मिक मान्यता मुंडन का सच बताते हैं कि कैसे बालों का कारोबार विदेशों में होता है.


hair extension



फिल्म ही नहीं असल जिंदगी में भी कुछ ऐसा ही होता है. असल में विदेशों में हेयर एक्सटेंशन ब्यूटी पार्लर के बारे में आपने सुना होगा जिसमें छोटे बालों वाली महिलाएं ये थेरेपी अपनाकर अपने बालों को लम्बा कर सकती हैं. क्या आप जानते हैं कि इस थेरेपी के लिए बाल कहां से आते हैं इन हेयर एक्सटेंशन्स के लिए सबसे ज्यादा बाल आते हैं भारत से. एशिया में भारत ही वो देश है जिसके बालों की क्वालिटी सबसे अच्छी मानी जाती हैं, लेकिन सिर्फ सैलून से नहीं आते. इन बालों को धर्म के अग्रणी मंदिरों से सबसे ज़्यादा इकठ्ठा किया जाता है.


hair extension 1



वर्जिन बालों की है सबसे ज्यादा डिमांड

भारत में बाल उतारना पवित्र प्रक्रिया मानी जाती है लेकिन ज्यादातर लड़कों के होते हैं. दक्षिण भारत के कई मंदिरों में हर साल ‘वर्जिन हेयर’  यानि ऐसे बालों की आहुति दी जाती है, जिन्हें न तो कभी शैम्पू किया गया है न ही ब्लो ड्राई, हेयर कलर भी नहीं किया गया और ज्यादातर बालों पर कैंची भी नहीं चली. इन मंदिरों में जो भी महिलाएं अपने बाल उतरवाती हैं, वो सभी इसे भगवान को अर्पण करती हैं. हालांकि, इस पवित्र रिचुअल ने एक हेयर एक्सटेंशन और विग के बिजनेस की नींव रखी है. जिससे विदेशों में बालों का ये कारोबार बहुत फल-फूल रहा है…Next


Read More :

इस मंदिर में की जाती है महाभारत के खलनायक समझे जाने वाले दुर्योधन की पूजा

रहस्यमयी है यह मंदिर अंग्रेज भी नहीं खोज पाए इसके पीछे का राज

जानें मंदिर और मस्जिद के गुंबद का क्या है रहस्य



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran