blogid : 316 postid : 1203772

भारत में इस तरह से शुरू हुई थी वेश्यावृत्ति, इतिहास की ये कहानी हैरान कर देगी आपको

Posted On: 13 Jul, 2016 Social Issues में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उसे अंधेरा पसंद नहीं था. अब गांव में बिजली कहां होती है जो रात में उसे रोशनी नसीब होती. दीए की मध्यम रोशनी में उसे वो राहत नहीं मिलती थी, इसलिए शाम होते ही वो नदी के पास आकर बैठ जाया करती थी. जहां पर जुगनू झुंड बनाकर उजाला फैलाते थे. लेकिन रोशनी की ये तलाश उसके लिए जिंदगी भर का अंधेरा साबित हुई. पड़ोस के एक आदमी की नजर न जाने उस पर कब से थी. उसे बस इतना ही याद है कि अगली सुबह जब उसकी आंखें खुली, तो वो एक अंधेरी कोठरी में बंद थी. फिर तो हमेशा के लिए उसके नसीब में अंधेरा ही लिख दिया गया. 17 साल की उम्र में उसे ज्यादा कुछ पता नहीं था लेकिन उसके पास आने वाले लोग उसके ग्राहक बताए जाते थे और वो रात की रानी. जिसकी रातों के सौदे कभी चंद सिक्कों तो कभी लाखों में होते थे.


history-of-prostitution-indian-devadasi

ये कहानी हर उस लड़की की हो सकती है जो जबरन वेश्यावृत्ति के धंधे में गांवों या शहर के दूर-दराज के इलाकों से लाकर धकेल दी जाती हैं. देशभर में ऐसे कई रेड लाइट एरिया हैं जो जिस्मफरोशी का दलदल कहे जाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत में आखिर वेश्यावृत्ति शुरू कैसे हुई थी. आइए डालते हैं एक नजर भारत में वेश्यावृत्ति के इतिहास पर.


‘नगरवधु’ से शुरू दोहरे समाज की कहानी


nagarvadhu


जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि प्राचीन भारत में नगरवधु हुआ करती थी. जिस पर किसी एक आदमी का नहीं बल्कि नगरभर के प्रभावशाली व्यक्तियों का स्वामित्व होता था. शुरूआत में नगरवधुएं केवल नाचने, गाने और मनोरंजन का ही काम किया करती थी लेकिन धीरे-धीरे इन्हें दाम देकर खरीदा जाने लगा. दूसरी सदी में सुदरका नाम के लेखक द्वारा संस्कृत में लिखी गई ‘मृछकतिका’ में नगरवधु का पूरा विवरण मिलता है जिससे ये साबित होता है कि दिन में मनोरंजन करने वाली ये लड़कियां रात में दाम देकर राजाओं के पास बुलाई जाती थी. इनमें आम्रपाली नाम की नगरवधु बहुत मशहूर है. कहते हैं वो इतनी सुंदर थी कि पूरा नगर ही नहीं बल्कि कई राज्यों के राजा उसे जीतने का प्रयास करते थे.


तवायफों को भी बनाया गया वेश्यावृत्ति का हिस्सा


dancer


शुरूआत में मुगल काल के दौरान तवायफें केवल दरबार में नाच-गाना करके शाही परिवार का मनोरंजन किया करती थी, लेकिन धीरे-धीरे इनके कोठों को वेश्यावृत्ति के ठिकानों में बदल दिया गया.


गोवा में जापान से लाई जाती थी सेक्स गुलाम


model


16-17वीं शताब्दी में गोवा पर पुर्तगालियों का कब्जा हुआ करता था. उस समय ये लोग जापान से मुंह मांगे पैसे देकर सेक्स गुलाम बनाई गई लड़कियों को जापान से खरीदकर लाया करते थे. धीरे-धीरे जब पुर्तगालियों की दोस्ती भारत के अन्य ब्रिटिश शासकों से हुई तो वो भारत से गरीब लड़कियों के परिवारों को पैसे देकर या जबरन लड़कियों को उठाकर वेश्यावृत्ति के ठिकानों पर भेजने लगे. इस तरह आर्मी कैंप के पास ही वेश्यावृत्ति के कोठे बनाकर ब्रिटिश सिपाही अपनी मनमर्जी से इन लड़कियों के ठिकाने पर पहुंच जाते थे.


19वीं सदी से फैलने शुरू हुए रेड लाइट एरिया


dancer 1


आज शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने भारत में फैले इन रेड लाइट एरिया के बारे में न सुना हो. महाराष्ट्र और कर्नाटक के कई इलाकों में ‘देवदासी बेल्ट’ वेश्यावृत्ति से ही जुड़ा हुआ नाम है. साथ ही कोलकत्ता का सोनागाछी, मुंबई का कमाटीपुरा, दिल्ली का जीबी रोड़, आगरा की कश्मीरी मार्केट, ग्वालियर का रेशमपुरा आदि इलाके रेड लाइट एरिया के लिए बदनाम है.


पुलिस और प्रशासन आज भी हैं नाकाम


dancer3


ये एक ज्वंलत सवाल है कि इतनी सदियां गुजर जाने के बाद भी आज तक पुलिस, प्रशासन और सरकार वेश्यावृत्ति पर लगाम लगाने के लिए कोई सार्थक कदम नहीं उठा पाई है. वहीं दूसरी तरफ वेश्यावृत्ति को नियमित करके या कानूनी वैधता दिलाने के लिए बहस होती दिखाई देती है.


एक सवाल समाज से भी


problem_img1


जरा उस स्थिति के बारे में सोचिए, जब कोई लड़की भीड़ से गुजरती है और कोई व्यक्ति उसे गलत तरीके से स्पर्श करता है, ऐसे में घर जाकर न जाने वो अपना हाथ कितनी बार धोती है. अनचाहे स्पर्श की व्यथा सिर्फ एक लड़की ही समझ सकती है. इसी तरह अपनी मर्जी के खिलाफ इस दलदल में उतारी गई लड़कियों को हर रोज किसी भी पुरूष के साथ हमबिस्तर होना पड़ता है. क्या इंसानियत के तौर पर ही सही, समाज से उपेक्षित इन लड़कियों के प्रति  क्या हमारी कोई जिम्मेदारी नहीं है?….Next

Read more

वेश्‍याओं के देहरी की धूल पर चढ़ाएंगी कुलवधुएं श्रद्धा के फूल

‘मैं जानती हूं कि मैं सेक्सी हूं और लोग मुझे देखते हैं’, मिलिए 85 वर्षीय उस महिला से जिसने उम्र के इस पड़ाव पर वेश्यावृति को चुना

एक वेश्या की जिंदगी की दास्तां कोई नहीं सुनना चाहता लेकिन जो स्वप्ना के साथ हुआ उसे जान आपकी रूह कांप उठेगी




Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ajay kumar dubey के द्वारा
March 8, 2017

आदरणीय संपादक महोदय लॉगिन करने में प्रॉब्लम हो रही है समाधान बताने की कृपा करें


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran