blogid : 316 postid : 1122180

सरकार के इस प्रयास से यह गांव बना धुआं रहित गांव

Posted On: 12 Dec, 2015 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारत के सुदूर गांवों में आज भी हमारी माँ-बहनें मिट्टी के चूल्हे पर खाना बनाती हैं. इनमें से कई अभागिन ऐसी हैं जिनकी पूरी जिंदगी चूल्हा को सुलगाते-सुलगाते खत्म हो जाती है. निश्चित रूप से यह काम काफी तकलीफ़देह और स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से हानिकारक है. भारत के विकास का डंका विश्वभर में बज रहा है लेकिन हमारे घर की महिलाओं का दम चूल्हे के धुएं से घुट रहा है. इन सबके बावजूद एक अच्छी खबर यह है कि भारत में मात्र एक ऐसा गांव है जहां किसी भी घर में मिट्टी का चूल्हा नहीं है.


en-stove-images2-1995_Page_14_Image_0001


कर्नाटक का व्याचाकुराहल्ली गांव वर्षों से मिट्टी के चूल्हे पर खाना बनाता आ रहा था. यहां की रसोई घरों की दीवारें धुएं से बदरंग हो गई थी. लेकिन अब इस गांव के अच्छे दिन आ गए हैं. जी हां, चिकबलपुर जिला के गौरीबिदानुर तालुक में बसे व्याचाकुराहल्ली गांव के हर घर में अब एलपीजी कनेक्शन लग गया है. यहां के घरों में लकड़ी से खाना पकाना बीते जमाने की बात हो गई है.


03IN_GAS_741827f


Read: इन कारणों से पाकिस्तानी महिला फुटबॉल टीम चर्चा में


केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने आधिकारिक तौर पर इस गांव को देश का पहला धुआं रहित गांव घोषित किया है. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ट्विट कर कहा है कि “व्याचाकुराहल्ली गांव के रहवासियों को मेरी शुभकामनाएं, जिसे देश का पहला निर्धूम गांव घोषित किया गया है”. बेंगलुरू से लगभग 77 किमी दूर व्याचाकुराहल्ली गांव में इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (आईओसी) ने मिशन स्मोकलेस विलेज के तहत पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया था.


Read: जमीन पर ही नहीं आसमान में भी लड़ते हैं महिला-पुरुष…. आप यकीन नहीं करेंगे इस लड़ाई के बाद क्या हुआ


आईओसी की महाप्रबंधक (स्मोकलेस विलेज) मोती सायी वसुदेवन ने कहा कि महिला स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर इस प्रोजेक्ट को शुरू किया गया था. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि ईंधन के रूप में लकड़ी के लगातार प्रयोग से महिलाओं में सांस लेने की समस्या बढ़ रही है.Next…


Read more:

पोते को अपने गर्भ से जन्म देने के लिए महिला पहुंची कोर्ट में

मेंढक की वजह से गर्भवती हुई महिला! दिया मेंढक की तरह दिखने वाले बच्चे को जन्म

एक नाइटक्लब ने दी गर्भवती महिला को शर्मिंदगी भरी सजा



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran