blogid : 316 postid : 1102971

वो इन बदनाम गलियों में आते ही क्यों हैं?

Posted On: 28 Sep, 2015 Others में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उसे अंधेरा पसंद नहीं था लेकिन यह जगह ऐसी थी जहां दिन-रात का पता ही नहीं चलता था. बचपन की धुंधली पड़ चुकी यादों में से उसे बस इतना ही याद है कि जब भीड़ में किसी अंजान मर्द का गलती से भी उसे स्पर्श होता था तो घर में आकर न जाने कितने घड़ों पानी से वो नहा लिया करती थी. सौतेली मां के पूछने पर कहती थी ‘मैं गिर गई थी इसलिए खुद को साफ कर रही थी’ लेकिन यहां तो उसे ये भी याद नहीं है कि वो कितने गैर मर्दों साथ हमबिस्तर हुई है. अब उससे ये सवाल किया जाता है कि आज दिन भर में कितने ग्राहकों को निपटा दिया.

red light area zone

READ: वेश्‍याओं के देहरी की धूल पर चढ़ाएंगी कुलवधुएं श्रद्धा के फूल


रेड लाइट एरिया में लाई गई ऐसी न जाने कितनी ही लड़कियों की आप-बीती इस कहानी से मिलती-जुलती या इससे भी अधिक रोंगटे खड़े कर देने वाली हो सकती है लेकिन उनके लिए यह बदनाम जगह अब घर बन चुकी है और अब उन्हें बाहर की दुनिया से कोई फर्क नहीं पड़ता. लेकिन फिर भी इनकी बातों से ऐसा लगता है कि आजादी की दबी-कुचली हल्की सी उम्मीद अभी भी इनके मन में कहीं धुल में लिपटी हुई पड़ी है. अभी कुछ अरसे पहले रेप की बढ़ती घटनाओं के कारण वेश्यावृत्ति को कानूनी दर्जा देने की मांग ने जोर पकड़ लिया था. अधिकतर लोग वेश्यावृत्ति को कानूनी दर्जा देने को रेप के मामलों में कमी से जोड़कर देख रहे थे वहीं दूसरी तरफ ऐसे लोगों की भी कमी नहीं थी जो लगातार स्त्रियों के लिए दोगली सोच रखने वाले समाज को कोस रहे थे.

एक सवाल रेड लाइट एरिया को ग्रीन सिग्नल देने की सोच रखने वालों से

अगर आप रेप के बढ़ते मामलों को वेश्यावृत्ति को कानूनी मंजूरी मिलने कारण से जोड़कर देखते हैं तो यानि आप हवस के नशे में अंधे मर्दों के लिए जानें-अनजाने आसानी से लड़कियां उपलब्ध करवाने की पैरवी कर रहे हैं. आप ऐसे लोगों को अपनी गंदी मानसिकता सुधारने के लिए नहीं बल्कि विकल्प देकर उनके घिनौने इरादों को हवा दे रहे हैं. क्या आप इस मानसिकता के साथ इन लोगों जितने ही दोषी नहीं हो जाते?


READ :‘मैं जानती हूं कि मैं सेक्सी हूं और लोग मुझे देखते हैं’, मिलिए 85 वर्षीय महिला से ने उम्र के इस पड़ाव पर वेश्यावृति को चुना


महिलाओं के एक वर्ग को बचाने के लिए दूसरे वर्ग की बलि

जिस दिन वेश्यावृत्ति को कानूनी रूप से स्वीकृति दे दी गई उस दिन से ही समाज में महिलाओं के दो वर्ग बन जायेगें जिसमें एक तो इज्जत के साथ अपने सपनों को पूरा करेगी जबकि दूसरे वर्ग की महिलाओं की जिम्मेदारी केवल मर्दों की शारीरिक इच्छा को पूरा करने तक ही सीमित होगी और उनके लिए आवाज उठाने वालों को बेवकूफ मानकर चुप करवा दिया जाएगा क्योंकि तब उन्हें कानूनी दर्जा हासिल हो चुका होगा.रेप से महिलाओं को बचाने के लिए वेश्यावृत्ति के रूप में महिलाओं को बीमार मानसिकता वाले मर्दों के सामने परोसने से रेप के मामलों में कमी आएगी या नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं है लेकिन रेड लाइट एरिया का ये स्याह कारोबार जरूर फल-फूल जायेगा.

redlight2

वो अपनी मर्जी से तो नहीं आती यहां

आए दिन जिस्मफरोशी के लिए फलां राज्य से लाई हुई लड़कियों को बरामद किया गया, ऐसी न जाने कितनी ही खबरों से हम रू-ब-रू होते हैं. इससे तो ये बात साफ है कि अधिकतर लड़कियां रेड लाइट एरिया तक पंहुचा दी जाती हैं न कि खुद इस दलदल में फंसने आती हैं. इस तरह से तो कानूनी दर्जा मिलने पर लड़कियों को रेड लाइट एरिया में पहुंचने से पहले कानूनी रूप से बचाया जा सकता है लेकिन जिस्मफरोशी के जाल में उतरने के बाद कोई इनकी सुध भी नहीं लेगा क्योँकि तब यह कानूनी हक हासिल कारोबार का हिस्सा बन जाएगी. फिर किसी के लिए भी ये साबित करना मुश्किल हो जायेगा कि ये लड़किया जोर-जबर्दस्ती से यहां लाई गईं है या अपनी मर्जी से ये काम कर रही हैं.

READ: इस 2 मिनट के वीडियो को देखकर आप भी उस औरत का दर्द समझ जाएंगे जो कभी ‘मां’ नहीं बन सकती


एक कहानी यह भी

देह-व्यापार का समर्थन करने वाले लोगों की अजीब मानसिकता को दिखाती एक कहानी सालों पहले अचानक यूं ही मेरे कानों में पड़ गई थी, मैं डीटीसी की क्लस्टर बस से कमला मार्किट की ओर जा रही थी मेरी सीट के पीछे एक आदमी और उसका दोस्त थोड़ी तेज आवाज में बातें कर रहे थे. उनमें से एक ने कहा ‘रात को घर लेट आया तेरी भाभी को पता चल गया कि मैं वहां गया था, हमेशा की तरह लड़ाई कर रही थी. यह सुनकर दूसरे दोस्त ने कहा ‘तो फिर…मायके नहीं गई? इतने में वो आदमी बोला ‘कहां जाएगी…समझा दिया मैंने उसमें और उन लड़कियों में बहुत फर्क है वो लड़कियां बनी ही इन चीजों के लिए हैं. इतना कहकर दोनों तेज आवाज में ठहाके मारने लगे.उनकी घिनौनी बातें सुनकर मेरे रोंगटे खड़े हो गए और मैं सोचने पर मजबूर हो गई कि आखिर इन लोगों के इन बदनाम गलियों में जाने से ही तो इन गलियों में रौनक होती है और वेश्यावृत्ति का कारोबार फलता-फूलता है…NEXT

READ MORE:

तीस मिनट का बच्चा सेक्स की राह में रोड़ा था इसलिए मार डाला, एक जल्लाद मां की हैवानियत भरी कहानी

पैसे देकर गर्भधारण करना चाहती है यह महिला पुरूषों को फेसबुक पर दे रही है आमंत्रण




Tags:                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Aryan के द्वारा
May 9, 2017

जो इस प्रकार के काम में (मानव तस्करी में )संलिप्त पाए जाएँ जो किसी भी तरह से बच्चियों /महिलाओं को लाकर कोठे पर बेंचते हैं उन्हें मृत्यु दण्ड या कठोरतम सजा दी जाय जिससे उनकी रूह काँप जाय और दूसरा व्यक्ति ऐसे काम में संलिप्त न हो सके और हमारी माँ /बहन /बेटियों को इस दलदल से निकाल कर उनको किसी दूसरे कार्यों में लगाया जाय जिससे उनका जीवन सुधर सके और वह भी सम्मान और इज्जत का जीवन जी सकें . पुनः एक बार फिर कहना चाहूँगा कि जो लड़कियों /महिलाओं को इस दलदल में धकेलते हैं उन्हें फांसी की सजा होनी चाहिए . इसके लिए कठोरतम कानून बनना चाहिए …………… किसी भी सरकार की यदि दृढ़ इच्छा हो जाय इसे बंद करवाने की तो कोई माई का लाल इसे चालू नहीं करवा सकता है ……………………………..

डा श्याम गुप्त के द्वारा
May 1, 2017

ये जो आप चटखारे लेकर यहाँ लिख रहे हैं ..बस वही असली जड़ है इस  समस्या व कहानी की जो सदैव से दुनिया भर के समाज में मौजूद है ——आज कहाँ कोइ पढी-लिखी लड़की मर्द-पुरुष-लडके का स्पर्श होने पर घर जाकर नहाती है ,, न कभी एसा होता था सब कुछ अधिकाँश यहाँ झूठ ही लिखा जारहा है ……

Aryan के द्वारा
April 12, 2017

सही कहा आप ने रेड ऎरीए को माऩयता नही मिलनी चाहिए इससे अपराध और बढेगा 


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran