blogid : 316 postid : 1099134

पर्दों से बाहर आकर ये ‘एसिड अटैक सरवाइवर्स’ चला रही हैं कैफे

Posted On: 18 Sep, 2015 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अगर आपको ताजमहल देखने के लिए आगरा जाने का मौका मिले तो इस बार ‘शेरोस हैंगआउट’ नाम के कैफे में जाना न भूलें. हो सकता है इस कैफे में केवल एक बार जाने से ही, जीवन के प्रति आपका नजरिया ही बदल जाए. प्यार और आतंरिक सुंदरता की एक नई परिभाषा के साथ पांच ‘एसिड अटैक सरवाइवर्स’ कैफे को चला रहीं हैं.


Acid-Attack



कैफे में जाते ही आपको रोशनी, रंगो और सुंदर विचारों से सजी दीवारों का रोचक नजारा देखने को मिलेगा. वहीं खाने-पीने के शौकिनों के साथ रंग-बिरंगी पोशाकों में दिलचस्पी रखने वाले लोगों को भी कैफे में काफी कुछ नया देखने को है.


Read: आपके बीच रहने वाली इन जुनूनी महिलाओं ने बदल कर रख दिया है सारे समाज का नजरिया


acid attack

आगरा का यह कैफे जहां इतना दिलचस्प है वहीं दूसरी ओर इन पांचों ‘एसिड अटैक सरवाइवर्स’ की कहानी उससे भी ज्यादा चौकानें वाली है. कैफे में ही मौजूद एक छोटे से बुटीक में अपने खुद के डिजाइन किए हुए कपड़ों को दिखाते हुए 22 वर्षीया रूपा बताती हैं “मैं फैशन डिज़ाइनर बनना चाहती थी लेकिन उस वक्त मेरे सपने चूर हो गए जब मेरी अपनी ही सौतेली मां ने ही मुझ पर एसिड फेंक दिया. मैं इस तरह से हार नहीं मानना चाहती थी इसलिए मैंने अपनी टूटी हुई शादी और अतीत से बाहर निकलना ही बेहतर समझा. आज मुझ में पहले से कहीं ज्यादा आत्मविश्वास है और मैं आज आत्मनिर्भर भी हूं.” आगे चेहरे पर एक हल्की मुस्कान के साथ वो कहती हैं “अब मुझे अपने परिवार की याद नहीं आती,अब यहीं मेरा परिवार है जिनके साथ मैं आज हूं.”


Read: हिमाचल के इस कैफे में केवल भारतीयों के लिए है ‘नो एंट्री’


acid attack01


वहीं कैफे की एक अन्य मुख्य सदस्य 42 वर्षीया गीता अपनी कहानी सांझा करते हुए कहती हैं कि “मेरे पति को बेटियां बिल्कुल पसंद नहीं थी,जब मैं दूसरी बेटी की मां बनी तो मेरे पति ने मुझ पर एसिड अटैक किया. उस समय मैं अपनी दोनों बेटियों के साथ सो रही थी. उस अटैक में, मैं और मेरी बड़ी बेटी बुरी तरह घायल हो गई जबकि मेरी छोटी-सी बेटी ने दम तोड़ दिया. आज मैं इन चीजों से काफी आगे बढ़ चुकी हूँ.”

स्टॉप एसिड अटैक अभियान के संस्थापक आलोक दीक्षित का कैफे के बारे में मानना है कि “हमारा लक्ष्य देशभर में कैफे चैन को व्यवसाय के दृष्टिकोण से स्थापित करने से कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण एसिड अटैक सरवाइवर्स को आत्मनिर्भर बनाना है.” ‘शेरोस हैंगआउट’ का अर्थ पूछने पर ये सभी जिंदादिल लड़कियां खिलखिलाते हुए कहती हैं शी+हिरोस. वो सभी लड़कियां खास और अपने जीवन की नायिका खुद है जो आत्मनिर्भर बनकर अपने सपने को उड़ान देना चाहती हैं. वहीं सुंदरता की परिभाषा का एक नया आयाम देते हुए ये कहती हैं “बाहरी सुंदरता तो पल भर की होती है. वास्तविक सुंदरता वो है जब आप खुद में से नफरत और गुस्से जैसे भावों को मन से निकालकर सबको अपना लेते हैं. इस तरह की सुंदरता जीवनभर रहती है जिसे कोई खत्म नहीं कर सकता.” ..Next


Read more:

अल्लाह मेरे, दुआ मेरी कुछ काम न आई..

सिर्फ चेहरा ही नहीं आत्मा भी जलाती है…

एसिड हमलों से कैसे निबटें




Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran