blogid : 316 postid : 775375

एक म्यूजियम जो ‘रेड लाइट’ से जुड़े हर सीक्रेट बयां करता है...

Posted On: 22 Aug, 2015 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दुनिया का इतिहास कई खंडों में विभाजित है, जिनकी अपनी कुछ अलग-अलग खासियत और विशिष्टताएं हैं. आज विश्व की जो तस्वीर हमारे सामने उपस्थित है असल में शुरुआती समय की तस्वीर इससे पूरी तरह भिन्न थी. समय चक्र को पीछे मोड़कर उसकी तुलना आज के दौर से करें तो शायद ही कोई समानता नजर आए. सब कुछ बिल्कुल बदल सा गया है, आज और उस बीते हुए कल में कोई समानता नजर नहीं आती सिवाय एक के. वेश्यावृति, दुनिया का सबसे पुराना व्यवसाय है जो आज भी बेरोकटोक चलाया जा रहा है. फर्क बस इतना है कि पहले ये मजबूरी या जरूरत के नाम पर किया जाता था, आज इनके अलावा अपने शौक पूरे करने का माध्यम भी बन गया है.


red light


आज भी जबरन महिलाओं को वेश्यावृति के दलदल में धकेला जाता है, आज भी उनकी मजबूरी का फायदा उठाकर उन्हें देह व्यापार करने के लिए विवश किया जाता है लेकिन बहुत सी ऐसी महिलाएं हैं जो सिर्फ पैसों के लालच में इस पेशे को अपना लेती हैं. भारत में वेश्याओं और वेश्यावृति दोनों को ही निकृष्ट समझा जाता है लेकिन ऐसे कई देश हैं जहां इस पेशे को कानूनी मान्यता प्राप्त है, इन्हीं में से एक देश है नीदरलैंड्स. आज हम आपको नीदरलैंड्स की राजधानी एम्सटर्डम लेकर जा रहे हैं जहां वेश्याओं से जुड़ा एक संग्रहालय भी बनाया गया है.


red light secrets


लाल रौशनी में नहाया यह नजारा है एम्स्टर्डम के ‘दे वाल्ले’ इलाके का जहां कांच की खिड़कियों के पीछे वेश्याएं अपने ग्राहकों को लुभाने के लिए खड़ी रहती हैं. यह इलाका इस शहर के सबसे पुराने रेडलाइट एरिया के नाम से भी जाना जाता है.


Read: समलैंगिक अधिकारों के लिए लड़ रही है ये आठ साल की बच्ची..इसकी कहानी पढ़कर दंग रह जाएंगे आप


एम्सटर्डम नगर निगम द्वारा वेश्याओं और वेश्यावृति को समर्पित एक संग्रहालय का भी निर्माण किया है, जिसे रेड लाइट सीक्रेट का नाम दिया गया है.




इस संग्रहालय में वेश्याओं के सजने और पहनने का सारा सामान है, वो कैसे रहती हैं, क्या पहनती हैं, कैसे अपना दिन बिताती हैं, इससे जुड़ी हर छोटी-बड़ी खबर आपको इस संग्रहालय में मिलती है.


museum secrets


सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस समय एम्सटर्डम में चार हजार से भी ज्यादा यौन कर्मचारी सक्रिय हैं, जिनकी देखभाल का सारा जिम्मा सरकार का है.




आंकड़ों के अनुसार 75 प्रतिशत वेश्याएं गरीब देशों से हैं, जो अपनी किसी ना किसी मजबूरी की वजह से इस पेशे को अपनाए हुए हैं. इन्हें सभी प्रकार की मेडिकल सुविधाएं भी मिलती हैं.


Read: शादी करने के बाद पता चला कि ‘हम तो सगे भाई-बहन हैं’…आप इसे फनी कहेंगे या इमोशनल पर ये है एक परिवार की ट्रैजेडी


एम्सटर्डम में पहले वेश्यावृति की उम्र 18 साल थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर 21वर्ष कर दिया गया है.




ग्राहक यौनकर्मियों को शीशे के पीछे से देखते हैं और अगर उन्हें वो पसंद आ जाती है तो वे शीशा खटकाकर अंदर आने की अनुमति मांगता है. एक दिन का उन्हें 150 युरो यानि करीब 20 हजार रुपए अदा करने होते हैं.


customer

Read More:


‘मैं जानती हूं कि मैं सेक्सी हूं और लोग मुझे देखते हैं’, मिलिए 85 वर्षीय उस महिला से जिसने उम्र के इस पड़ाव पर वेश्यावृति को चुना

यह मासूम दुनिया में तो आया लेकिन इसे जन्म देने वालों ने उसे दुनिया में लाकर प्रकृति को बहुत बड़ी चुनौती दी है, जानिए कौन हैं वो

बेटे की खुशी के लिए एक मां ने उसे मरने की आजादी दे दी, पर यह कहानी दुनिया के लिए मिसाल बन गई



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran