blogid : 316 postid : 865628

वैज्ञानिक शोध – आपका मल बन सकता है सोना

Posted On: 1 Apr, 2015 Others में

Chandan Roy

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इंसानों की बढ़ती जरूरतें और सीमित संसाधन ने वैज्ञानिकों को अन्य दूसरे विकल्पों पर सोचने के लिए मजबूर किया है. दुनियाभर के वैज्ञानिक हर रोज सीमित संसाधनों के विकल्प, कूड़े-कचड़े का बेहरत उपयोग जैसे कई महत्वपूर्ण अनुसंधान में लगे हैं. बढ़ती जनसंख्या के कारण बेशुमार कूड़ा-कचड़ा उत्पन्न हो रहा है. भारत जैसे विशाल जनसंख्या वाले देश में कूड़ा-कचड़ा का सही निपटारा एवं पुनः उपयोग एक बड़ी समस्या है. इसी क्षेत्र में अमेरिकी शोधकर्ता ने एक विचित्र प्रयोग किया है. उन्होंने कूड़ा-कचड़ा और इंसानों के मल से सोना जैसे कई मूल्यवान धातुओं को प्राप्त करने में सफलता पाई है.



raw gold


जी हाँ आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अमेरिकी शोधकर्ता की एक टीम इंसान के मल से सोना और कई दूसरी कीमती धातुओं को निकालने का तरीका ढूंढ़ रहे हैं. यह प्रयोग अपने-आप में अकेला और अनूठा है. शोध दल ने अमेरिका के मैला निष्पादन संयत्रों से सोना ढूंढ़ निकाला है. इस सोने की मात्रा उतनी है जितनी खनन के दौरान किसी खान में न्यूनतम स्तर पर पाया जाता है.


Read: भारत का एक ऐसा अद्भुत मंदिर जहां सिर्फ सोना बिखरा है !!


इस प्रयोग में वैज्ञानिकों को आंशिक सफलता भी मिली है. डेनवर में अमेरिकन केमिकल सोसायटी की 249वीं राष्ट्रीय बैठक हुई. इस बैठक में वैज्ञानिकों ने पुरे अनुसंधान पर विस्तार से चर्चा की. बैठक में यह भी कहा गया कि कचरे से धातुओं को निकालने के कारण पर्यावरण में जहरीले पदार्थ बहुत कम मात्रा में घुलेंगे.



jagran



डॉक्टर कैथलीन स्मिथ यूएस जिओलॉजिकल सर्वे (यूएसजीएस) के सह-लेखक ने बताया है कि- हमने खनन के दौरान न्यूनतम स्तर पर पाई जाने वाली मात्रा के बराबर सोना कचरे में पाया है. उन्होंने आगे कहा कि सोना और चांदी के अलावा इंसान के मल में पैलाडियम और वैनेडियम जैसी दुर्लभ धातु भी पाई जाती है. डॉक्टर स्मिथ ने बताया, “हम इन कीमती धातुओं को बेचने के मकसद से पाना चाहते हैं. इनमें तकनीकी मामलोंं में काम आने वाली धातु वैनेडियम और तांबा भी शामिल है.


Read: भारत की इस नदी में जाल फेंकने पर मछलियां नहीं बल्कि सोना निकलता


अमेरिका में हर साल गंदे पानी से 70 लाख टन ठोस कचरा निकलता है. जिसका आधा हिस्सा खेत और जंगल में खाद के रूप में इस्तेमाल किया जाता है और शेष आधे हिस्से जमीन भरने में या जला दिया जाता है. एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने आकलन लगाया है कि दस लाख अमेरिकी जितना कचरा पैदा करते हैं उसमें से एक करोड़ तीस लाख डॉलर की धातु निकल सकती है.Next…


Read more:

एक भारतीय जिसने सरकारी कोष में दान किए पाँच टन सोना

पैसा पाने के लिए खुद को ही कैंसर पीड़ित घोषित कर दिया और चल पड़ी फेसबुक पर लोगों से मदद मांगने

निकला था इंटरनेट पर प्यार ढूंढ़ने पर अफसोस जेब पर चूना लग गया…



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Dr S Shankar Singh के द्वारा
April 3, 2015

आपका मल बन सकता है सोना ‘–यह वैज्ञानिक शोध न होकर एक कोरा अंधविश्वास है i. तत्व neutron, प्रोटोन और इलेक्ट्रान से बनते हैं . सोने की संरचना एक विशेष प्रकार की होती है . ऐसा कोई तरीका नहीं है जिसमें मल से neutron, प्रोटोन और इलेक्ट्रान को सोने से अलग करके उसे सोने की संरचना में बदल जा सके


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran