blogid : 316 postid : 843205

साधारण से दिखने वाले इस व्यक्ति ने ऐसा क्या किया कि इसे मिला है पद्मश्री पुरस्कार?

Posted On: 28 Jan, 2015 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भयानक बाढ़…..जंगली जानवरों का उसमें मर जाना….पानी का सूखना…एक आदमी का दिमाग कौंधना….कुदाल-खुरपी उठाना और बाढ़ से बंजर बनी भूमि को हरा-भरा करना!  न…न, ये ‘मदर इंडिया’ जैसी किसी बॉलीवुड फिल्म का क्लाइमेक्स नहीं है. ये एक सच्चाई है जिसे करने के लिए हृदय में धीरज और मन में दृढ़ इच्छाशक्ति की जरूरत होती है और ऐसा कर दिखाया है असम के जादव पायेंग ने! जादव पायेंग जिसे इस गणतंत्र की पूर्व-संध्या से पहले तक केवल असम के सीमित हिस्सों के लोग जानते थे, आज विश्व में किसी परिचय का मोहताज नहीं है. पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित 58 वर्षीय पायेंग मिशिंग समुदाय से आते हैं.




jaddav




24 वर्ष की उम्र में भयावह बाढ़ आने के कारण उन्होंने असम में हुए भीषण नुकसान को देखा. इस बाढ़ में जन-जीवन प्रभावित होने के साथ ही कई जंगली जानवर मारे गए. जैसा कि बाढ़ के बाद की स्थिति होती है कि लोगों और सरकारों का ध्यान राहत-सामग्रियों की तरफ होता है, लेकिन पायेंग के दिमाग में पारिस्थितिकी-तंत्र को हुए नुकसान का विचार कौंधा. देश-दुनिया के बारे में अधिक जानकारी न होने के कारण उन्होंने अपने गाँव के बड़े-बुजुर्गों से इस बारे में पूछा. उनकी सलाह के अनुसार पार्यावरण को बचाने के लिए पेयोंग ने पौधारोपण की योजना बनायी.




Read: देखा है कहीं आदमी ऐसा!




तब उन्होंने अपने घर के समीप ब्रह्मपुत्र नदी पर स्थित एक बंजर द्वीप पर पौधे लगाने शुरू किया. तीन दशक के अथक प्रयासों के बाद आज वो बंजर द्वीप 550 हेक्टेयर की वन भूमि बन चुकी है और कई  चीता, हिरण, हाथी और राइनोज़ जैसे जंगली जानवरों का घर बन चुका है. इस वन का नाम पेयोंग के नाम पर रखा गया है. पेयोंग का घरेलू नाम मुलाई है और कठोनी का स्थानीय अर्थ ‘वन’ है.


jaaadav




तीस वर्षों की उनकी मेहनत बिल्कुल सपाट नहीं थी. उन्हें कई समस्याओं का भी सामना करना पड़ा. जैसे ही वहाँ के पौधे पेड़ बनने लगे जंगली जानवरों ने वहाँ डेरा डालना शुरू कर दिया. ये जानवर कभी-कभी अपने भोजन के लिए गाँव में घुस आते और लोगों के पालतू जानवरों को उठा ले जाते थे. इससे कई बार ग्रामीणों ने पेयोंग को जंगल नष्ट कर देने को कहा. लेकिन काफी मान-मनौव्वल करने पर आख़िरकार वो ग्रामीणों को मनाने में कामयाब हो जाते थे. हालांकि इस समस्या के समाधान के तौर पर उन्होंने केले के पौधे उगाये और वन में हिरण की संख्या को बढ़ाने की कोशिश की. समय के साथ हिरणों की संख्या बढ़ी और जंगली जानवरों के भोजन की समस्या भी खत्म हुई.




Read: वेश बदल कर निकले एसएसपी को आम आदमी समझ थानेदार ने उठाया हाथ, हुआ बर्खास्त





उसके इन प्रयासों के कारण ही वर्ष 2012 में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ने उसे ‘भारत का फॉरेस्ट मैन’ की संज्ञा दी. शिक्षाविदों, असम सरकार के साथ ही पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर ए पी जे अब्दुल कलाम ने भी पेयोंग के प्रयासों की सराहना की है. आज असम में उनका नाम सभी की जुबाँ पर है. असम में नदी के आसपास के कई इलाकों में मृदा-क्षरण की समस्या काफी गम्भीर है और वन-भूमि क्षेत्र को बढ़ाकर ही इस समस्या से निपटा जा सकता है. इस दृष्टि से पेयोंग का प्रयास और भी सराहनीय हो जाता है. Next…..









Read more:

48 सर्जरियां लेकिन हौसला अभी भी है बुलंद….पढ़िए अपने हक की लड़ाई लड़ती एक झुझारू महिला की दास्तां

बेटे की खुशी के लिए एक मां ने उसे मरने की आजादी दे दी, पर यह कहानी दुनिया के लिए मिसाल बन गई

जीना तो इनके लिए एक अभिशाप है ही, मरना भी सुकून से बहुत दूर है…किन्नरों की एक अजीब रस्म जो इंसानी रस्मों से बहुत दूर है



Tags:                                                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran