blogid : 316 postid : 764551

जिस उम्र में लड़कियां मां के आंचल में रहती हैं उस उम्र में इसने कई बार सेक्स किया और 4 बार मां भी बनी

Posted On: 20 Jul, 2014 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

शर्म और हया एक औरत का गहना समझा जाता है लेकिन जब वो इन्हीं आभूषणों को उतार फेंक देती है तो उदय होता है कलयुग का. आज की स्त्री कलयुग के बवंडर में कहीं खो गई है तभी तो आए दिन हमें ऐसी खबरें सुनने को मिलती हैं जो सरासर शर्मनाक हैं. हाल ही में ऐसी ही एक खबर ब्रिटेन के शहर से आई है जहां एक लड़की ने 16 साल से भी कम उम्र में 4 बार गर्भपात कराया है.


जिस उम्र में लड़कियां अपनी सहेलियों में घिरी रहती हैं या फिर मां के आंचल में ढकी रहती हैं उस उम्र में इस लड़की ने शारीरिक संबंध बनाए व 4 बार मां बनी. हर बार जब उसे पता लगता था कि वो मां बनने वाली है तो वो उस अनचाहे बच्चे को गिराने का फैसला कर लेती थी और गर्भपात कराती थी.


pregnancy test


यह सुन आप काफी चौंक गए होंगे लेकिन विदेशों में यह बात आम हो गई है. वहां तो ऐसे मामलों की लंबी-चौड़ी लिस्ट बनी हुई है. इस संदर्भ में यह कहा गया है कि विदेश में लड़कियां गर्भपात कराने को ‘गर्भनिरोधक’ उपाय की तरह इस्तेमाल करती हैं. उनके हिसाब से शारीरिक संबंध बनाते समय गर्भनिरोधक इस्तेमाल करने के स्थान पर गर्भपात कराना ज्यादा बेहतर है.


एक ही साल में इतने गर्भपात


अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य विभाग के अनुसार साल 2011 में तकरीबन 84 लड़कियों ने 16 साल से कम उम्र में एक से ज्यादा बार गर्भपात कराया है. कुछ विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि बाल अवस्था में शारीरिक संबंध बनाने वाले बच्चों को इसके बाद आने वाली दिक्कतों का अंदाजा नहीं होता. सिर्फ इतना ही नहीं कानूनी तरीके से विदेशों में इस उम्र में उन्हें शारीरिक संबंध बनाने का पूरा हक मिला है और वे यदि बाद में किसी मुसीबत में फंस जाते हैं तो उस अजन्में बच्चे को खत्म कर सकते हैं.


article-2697006-0D12FADC000005DC-657_634x445


Read More: तीस मिनट का बच्चा सेक्स की राह में रोड़ा था इसलिए मार डाला, एक जल्लाद मां की हैवानियत भरी कहानी


जज ने उसे गर्भपात कराने को कहा


विदेश की ही एक और हैरतअंगेज खबर है जब खुद हाई कोर्ट के जज ने 13 साल की उस बच्ची से गर्भपात कराने को कहा. उस लड़की की दादी का कहना है कि उसकी पोती दिन प्रतिदिन मोटी हो रही थी और जब उसका पेट भी बाहर आने लगा तो वो थोड़ा भयभीत हो गए.


abortion case


अस्पताल में दिखाने पर डॉक्टरों ने वजन बढ़ने के अलग ही कारण बताए लेकिन असल बात सामने ना आ सकी. जब परिवार द्वारा एक लैब में कुछ टेस्ट कराए गए तो पता लगा कि वो लड़की गर्भधारण कर चुकी है. यह मामला अदालत तक पहुंच गया और तब जज ने उस लड़की से पूछा कि क्या वो इस बच्चे को रखना चाहती है? तो लड़की ने जवाब दिया कि वो इतनी कम उम्र में मां नहीं बनना चाहती.


क्या कारण है इसका?


विदेश के रंग-ढंग से हर कोई परिचित है. वहां जैसे ही बच्चों में कुछ समझ आ जाती है वे मनमर्जी करते हैं और कई तो अपने माता-पिता से अलग रहना शुरू कर देते हैं. लड़के-लड़कियां एक ही घर में, एक ही कमरे में सुबह शाम एक साथ रहते हैं. इस ‘लिव-इन रिलेशनशिप’ के दौर से हमारा समाज घिर गया है.


live in relation


जब लड़के व लड़कियां एक ही छत के नीचे बिना शादी के रहेंगे तो उनमें शारीरिक संबंध होना व्यवहारिक बात है. इस मुद्दे पर उनके माता-पिता भी कोई विरोध नहीं कर सकते क्योंकि विदेशों में ऐसा करना कानूनी रूप से सही है.


केवल विदेश ही क्यों, हमारे देश भारत में भी ‘लिव-इन रिलेशनशिप’ का भूत सब पर सवार हो रहा है. लोग केवल शारीरिक भूख मिटाने के लिए मां-बाप से झूठ बोलकर या हठ कर के अलग रहते हैं. वे यौन संबंध बनाते हैं जिस कारण कई लड़कियां कम उम्र में गर्भवती हो जाती हैं या फिर दोनों ही एड्स तक का शिकार हो जाते हैं.


Read More: क्या वाकई ‘अल्लाह’ ने उन्हें बाजार में बेचने का फरमान जारी किया है! जानना चाहेंगे डर के साये में जीने को मजबूर करती यह घटना?


कैसे की जाए रोकथाम…


यदि हम भारतीय सभ्यता की बात करें तो यहां ऐसे मुद्दों को काफी गंभीरता से लिया जाता है परंतु इसके बावजूद भी यह सब बढ़ रहा है. बच्चों की इस हरकत पर माता-पिता को काफी शर्मिंदा होना पड़ता है. यदि आप भी इन सबका शिकार होने से बचना चाहते हैं तो आपको खुद ही पहल करनी होगी. इस समय जरूरत है अपने बच्चों पाबंदी लगाने की.


Teenage-Love


आज माता-पिता खुद भी मॉर्डर्न बन रहे हैं व बच्चों को भी वैसा ही वातावरण देने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन यह कुछ हद तक गलत है क्योंकि बच्चे गलत संगत में पढ़ जाते हैं. माता-पिता को इस समय बच्चों को गलत काम करने से रोकना चाहिए और यह तब तक चलता रहना चाहिए जब तक बंद आपको ना लगे कि वो सच में इतने परिपक्व हो गए हैं कि दुनिया को परख सकें.


Read More: इस 2 मिनट के वीडियो को देखकर आप भी उस औरत का दर्द समझ जाएंगे जो कभी ‘मां’ नहीं बन सकती


लड़कों की जिंदगी की नयी सनसनी ‘स्कर्ट’ है, जानिए क्या हुआ जब कॉलेज में लड़कों का ड्रेस कोड ‘स्कर्ट’ बन गया और वे इसे पहनकर कॉलेज आए


उसका गुनहगार कोई और नहीं, उसके पिता का जिगरी दोस्त है, एक मासूम की आपबीती

Web Title : teenage-aged-16-years-had-four-abortions



Tags:                                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sunil saini के द्वारा
June 10, 2015

गोरव बंसल बिलकुल ठीक कह रहा है, सरकार को सोचना चाहिए

Dipak kumar के द्वारा
November 22, 2014

Sir in my body my T.L.C. is18,200 and its normal range is 4000 to 11000 ,so now what can i do please reply

radhe के द्वारा
October 21, 2014

वेश्यालय नही खुलेंगे तो ना ही रेप रुकेंगे और ना ही कुकर्म इसलिए सभी लड़के लडकियों को अपनी मर्जी से रहने दो क्योकि जो होना है उसे सिर्फ उनकी भूक को शांत करके ही रोका जा सकता है और जो करना चाहिए वो सरकार नही करेगी और करती है तो उसका रिजल्ट मात्र एक माह में नजर आजायेगा की समाज को कलयुग में क्या चाहिए ………

Bharat kumar के द्वारा
July 21, 2014

jisne jo karna hai usne kar ke hi rehna hai bhale wo sahi ho bhale galat is liye sabke dimag ko refresh karne ki zaroorat hai

SUBHASH KUMAR के द्वारा
July 21, 2014

दुनिया मे कोई भी कानून लागू हो जाय, जब तक लड़की को अशलील कपड़े पहनने पर आज़ादी दी जायेगी तब तक ये आम बात रहेगी लड़की के लिए. तब तक इस समाज मे रेप कांड की संख्या और भी बढती रहेगी

SUBHASH KUMAR के द्वारा
July 21, 2014

इसका सारा जिम्मेवार लड़की के माँ बाप है, जो लड़की को रंगरलियाँ मनाने के लिए आजाद कर देती है.

vibhor ashok nayak के द्वारा
July 21, 2014

mera yah kehna he ki wahaki sarkar kya kar he.

gaurav bansal के द्वारा
July 21, 2014

मेरा कोर्ट से गुज़ारिश है की आप कुछ और कानून के बारे मे १ बार फिर से सोचे क्यूंकि सोच, समय, हालत और लोग काफी बदल गए है १. लडकिया अपनी मर्ज़ी से समबनध बना रही है, उन्हें शादी की परवाह नहीं २. आमिर शादी शुदा मर्दो और लड़को को फंसाया जा रहा है कोर्ट से मिलने वाले हर्जाने क चलते ३. बिना शादी के वायदे के भी लडकिया सेक्स कर रही है ४. कुछ लड़कियों के घर वाले बॉयफ्रेंड होने से ऐतराज़ नहीं रखते और लड़कियों को पूरी छूट मिल रही है घर वालो की तरफ से और बाद मे जब लड़का शादी के लिए न कर दे तो वोई घर वाले कोर्ट जाने की दमकी दे रहे है ५. और अगर बॉयफ्रेंड आमिर है तो घर वाले अनदेखा करते है सब कुछ और लड़की को फुल सपोर्ट मिल जाता है बाद मे जब लड़का न करे तो घरवाले आँख खोल लेते है और बोलते है “हमे कुछ पता ही नहीं था इतना सब कुछ हो गया अब शादी नहीं हुई तो कोर्ट जायंगे अनरोध: आपसी सहमति से बनाये हुए यौन सम्बन्ध चाहें कोई भी लालच या कोई भी वायदा दिया गया हो या ना दिया गया हो लड़को को मुज़रिम ना साबित करे क्यूंकि १ लड़की जब संबंध बनाते हुए लड़के की मंशा समज़ नहीं पायी तो कोर्ट को वो लड़की कैसे बोल सकती है की लड़के ने गलत मंशा से यौन संबंध बनाये…. वायदे तोड़ने वाला कानूनन कोई मुज़रिम नहीं तो कानून किसी को दोषी करार नहीं दे सकता १ लड़का अगर १० लड़कियु से समबनध बनाता है तो लड़का दोषी और वो १० लडकिया निर्दोष?…१ लड़का १ ही समय मे १० समबनध बनाता है तो वो लड़का गलत हो सकता है क्यूंकि उसकी शादी की मंशा नहीं हो सकती लेकिन उन १० लड़कियु का चरित्र का प्रमाण पेश होगा कोर्ट मे तब ही लड़के को दोषी करार दिया जाना चाइये….और अगर लड़का १ के बाद १ समबनध बना रहा है तो फिर वो दोषी नहीं होना चाइये….


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran