blogid : 316 postid : 761130

परियों की कहानी सुनने की उम्र में वो मासूम अपने जीवन की सबसे बड़ी लड़ाई लड़ते हुए दुनिया को अलविदा कह गई, जानिए मासूम लॉरिन की मार्मिक कहानी

Posted On: 4 Jul, 2014 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हमें यदि सर्दी-जुकाम भी हो जाए तो हम कितना परेशान हो जाते हैं और जल्द से जल्द उससे पीछा छुड़ाने के लिए डॉक्टर के पास भागते हैं. हों भी क्यूं ना, हर किसी को अपनी जिंदगी से बेहद लगाव जो होता है. हम स्वस्थ रहने के लिए कितना कुछ करते हैं लेकिन जब किस्मत ने ही इतनी बड़ी चोट दे दे तो उससे कैसे बचा जा सकता है?


lauryn-robinson


सिर्फ सात साल की उम्र और उसे कैंसर हो गया, वो भी एक नहीं बल्कि दो तरह के कैंसर. जिसने उसकी जिंदगी के साथ बहुत बड़ा खिलवाड़ किया लेकिन उसने एक बार भी उफ़ तक नहीं की. इतनी छोटी सी उम्र में उसे इतने दर्द मिले फिर भी वो हस्ती रही, उसने किसी से कभी कोई शिकायत तक ना की और सिर्फ सात साल की मासूम उम्र में लॉरिन रॉबिंसन ढेरों तकलीफों को झेलती हुई इस दुनिया को अलविदा कह गई. मेडिकल हिस्ट्री में लॉरिन का केस बेहद दुर्लभ था जिसे देखकर डॉक्टर तक हैरान थे.


एक नहीं दो तरह का कैंसर था उसे


इंगलैंड के उत्तरी वेल्स में रहने वाली नन्ही सी जान लॉरिन रॉबिंसन को कैंसर था और वो भी कोई ऐसा वैसा नहीं बल्कि एक साथ दो तरह का कैंसर और इसी बीमारी से लड़ती-लड़ती यह नन्ही सी परी दुनिया से चली गई. डॉक्टरों के अनुसार लॉरिन, लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया व बरकिट्स नॉन-हॉजकिंस लिम्फोमा नामक कैंसर से जूझ रही थी. आसान भाषा में कहें तो ल्यूकेमिया एक ऐसा कैंसर रोग है जो कि हड्डियों के भीतर उत्पन्न होता है और धीरे-धीरे हमारे शरीर में व्हाइट ब्लड-सैल्स की संख्या को बढ़ाता है जो काफी खतरनाक होते हैं व शरीर में मौजूद ऊर्जा को काटते हैं.


Lauryn-Robinson before after pic


जानिए क्या है ल्यूकेमिया


विशेषज्ञों के अनुसार यह एक प्रकार का कैंसर है जो हमारे शरीर की हड्डियों के बीच बनता है. इस बीमारी से उत्पन्न होने वाले ल्यूकेमिया सेल्स हमारे शरीर में व्हाइट ब्लड-सैल्स बनाते हैं और इनका अधिक मात्रा में होना एक बड़े खतरे की निशानी है. यदि आपके शरीर पर अकसर नील पड़ते हैं, आप बेहद थकान महसूस करते हैं या किसी तरह के गंभीर संक्रमण का शिकार हैं तो आप चौकन्ने हो जाएं, शायद यह ल्यूकेमिया कैंसर का संकेत दे रहे हैं.


Read More: इस बहादुर महिला ने ऐसा क्या कर दिया जिससे पूरा देश उसे सलामी दे रहा है, पढ़ें प्रेरणा की संवेदनशील कहानी


Acute_leukemia-ALL


12 महीने तक संघर्ष किया उसने


लॉरिन की बीमारी ने ना केवल दुनिया को बल्कि डॉक्टरों को भी हैरान कर दिया था. उसका इलाज करने वाले डॉक्टर भी बेहद घबराए हुए थे क्योंकि उन्होंने आजतक ऐसा केस नहीं देखा था और उसके साथ लॉरिन की इतनी छोटी उम्र भी एक बड़ी चिंता कि विषय था.


लॉरिन का इलाज करने वाली डॉकटरों की टीम ने यूके के बाकी अस्पतालों में भी इस रोग के बारे में खोज की जिससे यह सामने आया कि मेडिकल इतिहास में इस तरह का कैंसर दुनिया भर में केवल 200 लोगों में पाया गया है लेकिन इसके ज्यादा बढ़ने की आशंका 20 लाख में से मुश्किल से एक इंसान में देखी गई है.


chris_maloney_lauryn


जब उसकी बीमारी के बारे में पता लगा


लॉरिन के माता-पिता के अनुसार पिछले साल जुलाई के महीने में लॉरिन की इस बीमारी का पता लगा था जिसके बाद उसने 19 हफ्तों तक अस्पताल में इस बीमारी के विरुद्ध जंग लड़ी. डॉक्टरों का कहना है कि लॉरिन काफी हिम्मत वाली थी जिस वजह से उन्हें इलाज करने में कुछ आसानी हुई. उसकी इस जिंदादिली को देखकर कई कैंसर संस्थाओं ने भी लॉरिन की मदद करनी चाही.


article-2380804-1B0BDFF8000005DC-391_306x427


Read More: इस 2 मिनट के वीडियो को देखकर आप भी उस औरत का दर्द समझ जाएंगे जो कभी ‘मां’ नहीं बन सकती


उसकी हिम्म्त को सलाम


इतनी बड़ी बीमारी के बावजूद भी लॉरिन ने अपने अंदर खूब हिम्मत बटोरी हुई थी. उसकी इस हिम्मत को कितनी ही बड़े सितारों ने सराहा. पॉप ग्रुप ए1, बैकस्ट्रीट ब्वॉयज, फॉर्मूला रेस वन ड्राइवर मैक्स शिल्टन, इन सभी ने लॉरिन की हिम्मत को खूब सराहा.


75398534-suc-khoe-cua-Lauryn-ngay-ca


वो हमारी बेटी नहीं, एक सच्ची दोस्त थी


कहते हैं कि बुरे वक्त में तो हमारा साया भी पीछा छोड़ देता है लेकिन लॉरिन के माता-पिता हरदम उसके साथ थे और उसे सहारा दे रहे थे. लॉरिन की मां का कहना है कि वो एक ‘अमेजिंग’ बेटी थी.

article-2380804-1B0BDED4000005DC-204_634x356



हमारे लिए वो हमारी जिंदगी थी, हमारा पूरा संसार उसमें समाया था. वो सिर्फ हमारी बेटी ही नही थी, बल्कि एक सच्ची दोस्त थी जिसकी जरूरत हर किसी को होती है. अपने बुरे वक्त में भी लॉरिन खुश रहती थी और वो सब करती थी जो उसका मन कहता था. उसने कभी किसी के पीछे लगकर काम नहीं किया बल्कि हमेशा अपने दिल की सुनी.


Read More: क्या वाकई ‘अल्लाह’ ने उन्हें बाजार में बेचने का फरमान जारी किया है! जानना चाहेंगे डर के साये में जीने को मजबूर करती यह घटना?


उसका गुनहगार कोई और नहीं, उसके पिता का जिगरी दोस्त है, एक मासूम की आपबीती


पांच वर्ष की उम्र में मां बनने वाली लीना की रहस्यमय दास्तां


Web Title : worlds-first-child-infected-with-two-different-kind-of-cancers



Tags:                                                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran